शुक्रवार, 13 दिसंबर 2013

मधु सिंह : हे कपोतिनी ! तुम सुनो आज

 

   
       हे कपोतिनी, तुम सुनो आज  !


       बन कपोत प्रेमी तेरा जब   , डैनें   गुम्बद  पर लहराएगा
       गिर -गिर कर तेरी बाँहों में वह आशिक तेरा कहलाएगा

       जरा गिरा ले पट  घूँघट के ,और सजा  ले सपन नयन में
       इतिहास के स्वर्णिम पन्नो में इक नया नाम जुड़ जाएगा

       नहीं मौन ,इतिहास सजग है,लम्हों को सदियाँ लिखने को
       तुम  नूरजहाँ   बन   जाओगी ,  वह   सलीम   कहलाएगा

       उलट जरा इतिहास के पन्ने ,एक नज़र तुम उसपर डालो
       क्या फिर सलीम  को  जिंदा  दीवारों  में  चुनवाया जाएगा

       चीख पड़े न कब्र अकबर की , रो  न पड़े  मुमताज बेचारी
       ताज महल इस दुनियां में फिर इक नया बनाया जायेगा

       नीरव नभ के वो दीवानें .जब  बाँहों में  गिर तुम  इतराओगे 
       रे कपोतिनी ,पत्थर की जगह   तेरे  दिलको  तरसा जायेगा  

       

                                                                          मधु " मुस्कान "