रविवार, 5 जनवरी 2014

मधु सिंह : रह -रह कोई


   
        रह -रह कोई 
   

       तप्त वेग  धमनी का बन कर
       बुला   रहा   है  रह-  रह  कोई
       न्योछावर  में  पुष्प प्यार  के
       चढ़ा  रहा  है   रह - रह  कोई

       कभी गुलाब की पंखुड़ियाँ बन
       कभी  एक  कलिका  बन कर
       बढ़ा -  बढ़ा  अपनें  हाथो  को
       बुला  रहा  है   रह - रह  कोई

       खोल- खोल उर  अन्तः कपाट
       धमनी में  सन-सन  सा  कुछ
       विजय विपिन से वन्य सरीखे
       रिझा  रहा  है   रह - रह  कोई

      मंद पवन में  सुरभि सुमन में
      सुमन - वृंत  पर एक  परी सी
      बाँहों में भर - भर  कर  अपनें
      सुला  रहा  है    रह - रह  कोई

      विधु सा उदित केश छलकाए    
      ले -ले श्रुति- पट  का  चुम्बन
      प्रणय -गीत से कर आवाहन
      बुला  रहा  है   रह - रह  कोई

     व्यर्थ न होगा श्रुति-पट चुम्बन
     व्यर्थ  न  होगा   मृदु आलिंगन
     बना  पुजारी  शैल-  शिखर  से
     सुना  रहा  है    रह -  रह  कोई

     एक   नहीं  अगणित  रूपों  में 
     चुन-चुन कर जूही की कलियां
     मिलन सेज पर सजा सजा के
     बुला   रहा  है  रह - रह   कोई  

     घूँघट पट में  छुपा के  मुखड़ा 
     विधु आलिगन का आमन्त्रण 
     लिख लिख कर अपने होठों से 
     सजा  रहा  है  रह - रह   कोई 

     सरहाने   पर   अंगुलिओं  से 
     केश बंध  को खोल खोल  कर
     परिओं सा परिधान पहन कर 
     जगा  रहा  है  रह - रह  कोई 

     पिया मिलन  की आस सजाये 
     मधुर मिलन  की  सेज सजाये 
     मधु यामिनी की मादकता  सी 
     बुला  रहा   है   रह -  रह  कोई 
     
                          मधु  "मुस्कान "