रविवार, 17 मार्च 2013

61.. मधु सिंह : मै अचानक हँस पड़ी

                                                   
मै आचनक  हँस पड़ी 

 
                      मुझे   मालूम है                                                                                       वो मर नहीं सकता 
                   क्यों कि उसके सीने में
                   मेरी साँसें धड़कती हैं 
                   मेरी उँगलियों  पर 
                   उसकी साँसें थिरकती  हैं
                   और मेरी उंगलियाँ
                   उसकी आदतों में सुमार  हैं
                   बगैर मेरी  अँगुलियों के   
                   वह एक कदम भी
                   नहीं चल सकता  
                   कल उसकी मौत की झूठी  खबर
                   मैने  ही उड़ाई थी 
                   यह मेरी खुद की
                   खुद से लड़ाई थी
                   क्यों कि वह नहीं चाहता कि , 
                    हम  दोनों 
                   दो अलग -अलग पतों पर 
                   अलग- अलग रहें 
                   मैं अचानक हँस पड़ी  
                   कि पता एक होने का मतलब
                   कत्तई यह  नहीं है कि
                   हम साथ साथ ही  रहते हों 
                   और अलग- अलग होने का मतलब 
                   हम अलग- अलग रहते हों 
                   बात सिर्फ चाहत की है
                  और चाहत साथ -साथ
                  रहने और न रहने की
                   मोहताज कभी न रही
                  और न कभी होगी 
                           मधु "मुस्कान"