सोमवार, 18 मार्च 2013

69.मधु सिंह :निखर सी गई









 निखर सी गई 

 मुझे तुम  क्या मिले 
 एक बसर मिल गया 
 प्यार    ऐसा    मिला  
 मै    निखर   सी  गई 

हो खफ़ा तुमने मुझको
भुला      क्या      दिया  
 रेत   सहरा  का   बन
                                          मै   बिखर   सी   गई  
तुमने    नज़रें   मिला 
सर  झुका  क्या  लिया  
एक  बुझता दिया बन   
मै   तिमिर   हो   गई          

ओढ़ ली  तुमने  चादर 
खफीद्न     की    क्या 
जिश्म  से   रूह   मेरी  
निकल   उड़  सी  गई 

मेरी चाहत को तुमने
भुला    क्या     दिया  
बन  गवाही  मै,  खुद 
सामने  अड़  ही  गई

प्यार तेरा  क्यों मुझसे     
यूँ     जुदा    हो   गया   
जूनूने   हद  से  गुज़र 
मै    ढह    सी    गई

तुमने मेरी तरफ खुश
हो    निहारा  जो  क्या 
प्यार   की    रूह   बन 
जिश्म में उतर सी गई  

               मधु  "मुस्कान "