गुरुवार, 13 जून 2013

मधु सिंह : तुम न आये

          तुम न आये 



         सो गये सब दिये शाम के वक्त ही
         जिंदगी  जिंदगी  से  उलझती गई
         रात  आती  रही   रात  जाती  रही  
        तुम  न  आये  मगर सहर  हो गई

         चाँद  ढ़लता  गया  चाँदनी खो गई
        दिल धड़कता रहा ख्वहिशें सो गईँ
        पर  जुगनुओं   के  कहीं  गिर गये 
        तुम  न  आये  मगर सहर   हो गई 

         आज की बात थी आज की रात थी 
         कल की क्या नहीं  देखा  है किसने
         वक्त को भी  हजारों  पर  लग गये
         तुम  न  आये  मगर  सहर   हो गई

        धड़कने दिल की यूँ हीं धड़कती रहीं
        चूड़ियों  की  खनक  कहीं  खो  गई
        पायलें  पाँव  की  बेड़ियाँ  बन  गईं 
        तुम  न  आये  मगर सहर   हो गई

        बिंदिया  माथे  की  कहीं  गिर गई
        मेरे  होठों की  सारी  हँसी  खो गई
        सपने   सारे  धरे  के  धरे   रह गये
        तुम  न  आये   मगर सहर  हो गई

        बेबसी मेरी तुमने कभी सोची नहीं
       न   संदेस  घुंघरुओं  के  तुमने  पढ़े
       दिल की धड्कन यूँ ही धड़कती रहीं
       तुम  न  आये  मगर  सहर  हो गई

        अब  कहानी  मेरी   होने  चली  है
       आखिरी   आस   आखिरी   साँस है
       न आये ही  तुम  न  खताएँ  बताईं
       आखिरी  जिंदगी  की  सहर हो गई

                               मधु "मुस्कान "