मंगलवार, 13 नवंबर 2012

14.Madhu Singh : Naya Ghar Banaungi

    नया घर बनाउंगी 
                                                                                                                                                                              अलग एक काँच की बस्ती में अपना घर बनाउंगी  
ले  हाथ अपने पत्थरों  को,  मै   ख़ुद  को  डराउंगी  

 अकेला घर  मेरा होगा , रहूँगी  मै  खुश  अकेले में  
 जहाँ  धोखा  नहीं  होगा ,वहीँ मै  घर एक बनाउंगी 

 अकेला  रास्ता  होगा ,  न  कोइ   हमसफ़र  होगा
 रहूँगी  मै अकेली  उस जगह नई दुनिया बसाऊँगी
 
  बहुत चाहा था मैंने उसको,मगर वो सिरफिरी निकली 
  जहाँ दगा बाज़ी नहीं  होगी वहीं मै एक  घर  बनाउंगी 

   बहुत   सोचा है मैंने  हजारों बार बैठ कर अकेले में 
   जहाँ पर  न ज़हरे- खूँ  होगा वहीं  पर घर  बसाउंगी 

  रहूंगी अब  वहीं जहाँ साया  मेरा  मेरे ही साथ होगा 
  जहाँ बरसात होगी दुआओं की वहीं  मैं घर बनाउंगी

  न जाऊँगी कहीं मै डर गई हूँ अपने पन के खंजर से
  हया  होगी जहाँ जिस ठौर वहीं मै एक घर बनाउंगी

  देखी दुनिया चेहरे देखे बेशर्म सब अब दिखने लगे हैं
  मै चली उस ठौर वहीं अब प्यार की कुटिया बसाउंगी 
 

                                              मधु  "मुस्कान "