रविवार, 3 फ़रवरी 2013

58 .मधु सिंह : छुट्टा सांड़

                                                    छुट्टा सांड़ 
          

      कल   तलक  जो  कैद  थे  जेल  की  दीवार में   
      दिख  रहे   हैं  आज  वो ,  देश  की  सरकार में 

      रात  में  जो  रहजनी  के  खेल में  थे होशियार 
      हैं  बिक  रहे उनके कलेण्डर  देश के बाज़ार में

      जिस  मुल्क  के रहनुमा अन्धें हो जल्वागाह के
      मुफलिसी   बिक  जायगी  जिस्म  के बाज़ार में      
   

     जितने  शातिर  चोर थे  या  थे चम्बल के डकैत    
     छुट्टा  सांड  बन  फ़िर  रहें  हैं  दिल्ली   दरबार में   

      मूर्ति  चोरी  ज़ुर्म में , जो कल  गया  था जेल में      
      बन  पुजारी आ  गया ,  भगवान   के  दरबार में 

      जिसने   लूटी   आबरू   घुस   घरों   में  बार  -बार 
      सामिल हो गया  है आज वह ,मुल्क की सरकार में 
                                                        मधु " मुस्कान "