मंगलवार, 5 फ़रवरी 2013

59. मधु सिंह : बूढी दादी के आँचल पर


       बूढी दादी   के आँचल पर 


            बूढी   दादी   के  आँचल  पर 
            यह कैसा अभिशाप लिखा है 
            अपने    ही   घर   कोने   में 
            यह  कैसा  बनबास  लिखा है 

            माथे  की  सलवट  पर देखो 

            यह  कैसा अहसास छिपा है
            अपने  की  संतति  के हाथो 
            यह  कैसा  संत्रास  लिखा  है

            आंचल  के  ताने -बाने पर 
            यह  कैसा सन्यास लिखा है           
            अधरों पर मर्मान्तक  पीड़ा  
            का कैसा इतिहास  लिखा है 

            घर - घर   बूढी   दादी  रोती 
            रोना भी   चुपचाप  लिखा है 
            अपनो के ही हाथो यह कैसा 

            खून भरा मधुमास छिपा है   

           आँखों से टप-टप कर गिरती
           अश्रु भाव का भास्य लिखा है 
           क्यों  बूढी  दादी के चेहरे पर                
           दर्द   भरा  अहसास  छिपा है 

                               "मधु "सिंह "