शनिवार, 9 फ़रवरी 2013

62. मधु सिंह : मर्दों की नज़रो से बचना सखी तुम


       
                              (विवाह गीत)                      
                                                      
   मर्दों की नज़रो  से बचना सखी तुम 
      

          सखी  रखना  जरा  तुम ध्यान ,  चुनर  उड़ने  न पाए 
          झोके    हवा   के  बड़े   तेज  ,  दुपट्टा   गिरने  न  पाए 

         मर्दों  की नज़रों से बचना  सखी, पाँव फिसलने न पाए 
         सखी  रहना  बहुत  होशियार  , रस्ता  भटकने  न पाए

         माहिर बहुत बात करने में  होते, दिल मचलने न पाए
        रखना   बहुत  अपना  ध्यान,  नज़रें  बहकने  न पाए 

         धोखेबजी  में  इनका  शानी  नहीं,कजरा बहने न पाए 
         पाँव रखना बहुत तुम सम्हाल ,बिंदियाँ गिरने न पाए 

         जात  मर्दों  की  भोली लगती बहुत ,भूल  होने  न  पाए 
         रहना,  इनसे  बहुत, तुम    दूर ,  आँसूं   छलने  न पाए

         समझना, परखना  इन्हें  गौर से ,बाँहे  खुलने  न  पाए
         कसना  कसौटी  पे  पहले   इन्हें ,  धोखा   होने न पाए

         बहाने बनाने में, ए  हैं बड़े शातिर ,दिल धड़कने न पाए 
         सखी  सुनना   इन्हें  चुप -चाप ,बात आगे बढ़ने न पाए  
  
          रखना  नज़र ,इनकी  नज़रों  पे तुम ,कहीं लड़ने न पाए 
          सखी   रहना, बहुत  होशियार , मुक़दमा   होने  न पाए   

           झाँक -ताक में माहिर बहुत ए , खिड़की  खुलने न पाए   
           लम्बा  घूघट  तूँ  कर ले सखी  , चेहरा   दिखने  न पाए                      

          बाग -बगीचे  में  चक्कर  लगाते ,चक्कर चलने न पाए 
          सखी रहना  बहुत ही सम्हल कर ,  हल्ला  होने न पाए  

          ए   होते  बहुत  मक्कार  , रंग  बसन्ती  चढ़ने  न  पाए     
          दिल को रखना पकड़ दोनों  हाथो में ,राज खुलने न पाए 

           ठिठोली  हसीं  इनकी  फितरत में  हैं ,हँसीं डसने न पाए 
           बंद  रखना तूं दिल की  किवाड़ ,दरवाज़ा  खुलने न पाए 

           गर दिल तेरा न माने  सखी ,भूल से भी ए रोने  न पाए 
           पायल  अपना तूँ रखना सम्हाल , कहीं  बजने न पाए 

           नजरें मोहल्ले  की  तुम  पर लगी हैं ,खबर  उड़ने  न पाए 
           जरा रखना  धीरे -धीरे तुम  पाँव ,मोहल्ला जगने न पाए 
        
          

 (यह एक नव रचित विवाह गीत है ,न की पुरुषों के मर्यादा हनन  का प्रयास )
                          
                                                                    मधु "मुस्कान "