शुक्रवार, 15 फ़रवरी 2013

67.मधु सिंह : नग्नता का ज्वार



                                         नग्नता का ज्वार


             जिश्म की  ज्वाला  कहें  या  नग्नता का ज्वार           
             आधुनिकता अब  बन गई  है  देह का  व्यापार 

             चीर अपनी खुद-ब-खुद  जब हो गई व्यभिचार 
             दोष   औरों  पर  लगे,   है  यह   नहीं  स्वीकार 

              परिधान  मर्यादा  का  क्यों  उठ  गया  सरकार 
              है   नग्नता  की  नाच  यह , है  नहीं  यह प्यार 

             जब  शौक ही, है बन  गया  जिश्म  का व्यापार
             क्यों  न  होगी मर्यादा  हमारी वासना का  द्वार

            अब  जिश्म  ही  करने लगे  हैं  खुल के पत्राचार
            अस्मिता   जल  जायगी  बन   दोगली  किरदार

            सभ्यता  के  बक्ष पर है टंगी जिश्म की तलवार
            क्यों  नहीं  होगी  हमारी  सभ्यता जल शर्मसार
                 
            हैं गलतियाँ अपनी भी काफी  हम करें स्वीकार
            नई   पीढ़ी  , अपनी  पीढ़ी  , हैं  दोनों  सहसवार   

                                                             मधु "मुस्कान "