मंगलवार, 14 मई 2013

मधु सिंह : मज़हबे हिन्द


 
       न  जाते  हम  बुतों पर  सर  झुकाने, न  कोई  चढ़ावे   बोले  हुए हैं
     है  मज़हब हिन्द मेरा ,कीताबे - मज़हबे- हिन्द की हम खोले हुए हैं
    
                                                                         मधु"मुस्कान"