रविवार, 26 मई 2013

मधु सिंह : इश्क की खुशबू

         इश्क की खुशबू


             तू  शौक  से   जी  ले  खिला  कर  फूल होठों पर 
             तुम्हारे   इश्क  की  खुशबू   निशानी  मांगती हैं 

             वो  तितली है  जो   बैठी तुम्हारे शुर्ख  होठों पर
             मोहब्बत  के   कशिश   की  कहानी   मांगती है

            मौज़े - दरिया  बन  परिन्दा चूम लेगी ओठ तेरे
            फज़ा में  कैद  हुश्ने-  ताबानी  जवानी मांगतीं हैं 

            हुश्न के आगोश  में  फड़फड़ाता फाख्ताये- दिल 
            तेरे शुर्ख  होठों से मोहब्बत  जाफ़रानी मांगती है

            मधुर मुश्कान के दीपक होठों पर जलाने के लिये
           आरज़ूएं  प्यार की  ख़ुदा  से   दीपदानी मांगतीं है 

         ताबानी -जगमगाहट

                                                 मधुर "मुस्कान "