शुक्रवार, 17 मई 2013

मधु सिंह : गुनाह मत करना



         गुनाह मत करना 


       मैं वक्त हूँ, तुम  मुझसे सवालात  मत करना 
       भूल  कर  भी,  कभी  कोई  गुनाह मत करना
     
       ऐसे  चेहरे  जो ,  पल  भर  में रंग बदल लेते हैं
       ऐसे  चेहरों  पर कभी तुम एतबार  मत करना 

       ख़ुद अपनी  निगाहें  भी  गुनाहगार  कम नहीं 
      तुम आईनों   से  बेवज़ह  तकरार  मत  करना 

       हाथों  पे जिनके  बिछी है ,फ़ितरत की लकीरें 
       हाथों   की तरफ़  उनके कभी हाथ मत करना 

      छाती  पे   समंदर   के  एक  तहरीर  लिखी है 
      पढने   की  उसे  गौर  से   तू  भूल  मत करना

       जो  घर  के  अंधेरों में,   हो  खामोश  सो गए
      उनसे  जिंदगी के  तुम  सवालात मत करना 

      सच  कह  के आज हम तो   गुनाहगार हो गए 
     भूल  से  भी , सच कहने का गुनाह मत करना 
      
                                             मधु " मुस्कान"