शनिवार, 11 मई 2013

मधु सिंह : स्नेह का दीप जलता रहे



         स्नेह का दीप जलता हे 


         माँ  का आँचल  मचलता रहे 
         स्नेह  का   दीप  जलता  रहे 
   
         माँ  के  सीने  से  ममता  बहे 
         पुष्प बचपन का खिलता रहे 

        माँ  के ओठों से चुम्बन मिले 
        छाँव  आँचल का  मिलता रहे 

        थपकी लोरी संग मिलती रहे 
        प्यार  खुशबू बन  हँसता  रहे 

       चाँद   आँगन   में  चलता रहे 
       माँ  का  आँचल  महकता रहे 

       न  कभी आँसू दिखे  आँख में 
       माँ   का  चेहरा   दमकता रहे 

      माँ के चरणों में हो माथा झुका 
     स्नेह   का   अभ्र  उमड़ता  रहे 
    
     
                         मधु"मुस्कान"