सोमवार, 17 दिसंबर 2012

26.Madhu Singh:Elzam Mohabbt Ka

       


         इल्ज़ाम 
                                  (1)
         हमने तो कभी दूर से भी गौर से देखा  नहीं  उसे
         इल्ज़ाम  मोहब्बत का  मेरे  माथे  पे  लग  गया
                                                                                                                         (2)
          
                                                                प्यार के दिए जलाना  बेशक जूरुरी हो गया है
                                                               जिश्म का सारा लहू तुम अब  दिए में डाल दो 
                                                                                         (3)
     
                                                               क्यों न मोहब्बत का एक पैमाना बनाया जाए
                                                               सारी  दुनिय को अब उसको  ही पिलाया जाए
                                                                                          (4) 
                                       
                                                               दुनियाँ  हमारे  प्यार  की  यूँ  घटती चली  गई
                                                               द्वारिका में श्याम की  वो मोहब्बत नहीं रही
                                                                  

                                                               

                                                                                                मधु  "मुस्कान"