बुधवार, 26 दिसंबर 2012

30.Madhu Singh: Kuch To Karo

                



                     
                               
    
                
                पास  बैठो  मेरे,कोई शरारत करो 
                नफ़रत  करो  या  मोहब्बत  करो 

                न  डूबें कहीं  हम  भँवर में अकेले 
                साथ  जीने  की  कोई  सूरत  करो 

               चुप  न  हो,  तुम  यूँ  हीं  बैठी  रहो 
               कोई  खंजर  चलाओ  शरारत करो 

               छलक जाएँ न आँखों से आँसूं कहीं 
               इन्हे तुम छुपाने की हिम्मत  करो 

              कहीं  खो न जाए  मंजिल  तुम्हारी 
              मोहब्बत की अपनी हिफाज़त करो 

              आंधियाँ जोर की हैं  अब चलने लगी
              दो कदम अब चलो,बस इबादत करो 

              मंजिल तो  है अब  तेरे कदमो तले 
             सिर्फ  बाँहों में भरने की चाहत करो

                                                    मधु"मुस्कान" 

               

             

            
               

                    

                

               


                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           



                                                                                                                                                                   

10 टिप्‍पणियां:

  1. Sunder prastuti
    मंजिल तो है अब तेरे कदमो तले
    बाँहों में भरने की सिर्फ़ चाहत करो

    जवाब देंहटाएं
  2. बेहतरीन बेहतरीन ,क्या खूब ,मोहब्बत का इजहार बड़े ही खूबशूरत तरीके से किया है ,दिल को छु लेने वाली प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (28-12-2012) के चर्चा मंच-११०७ (आओ नूतन वर्ष मनायें) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    जवाब देंहटाएं
  4. बढ़िया रचना पढवाई है आपने वो कहते हैं न इंतज़ार का फल मीठा होता है ठेक ही कहतें हैं .

    आंधियाँ जोर की हैं अब चलने लगी
    दो कदम अब चलो,बस इबादत करो

    जवाब देंहटाएं
  5. Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 दिमागी तौर पर ठस रह सकती गूगल पीढ़ी
    Expand Reply Delete Favorite
    3hVirendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 खबरनामा सेहत का

    बढ़िया रचना पढवाई है आपने वो कहते हैं न इंतज़ार का फल मीठा होता है ठीक ही कहतें हैं .

    आंधियाँ जोर की हैं अब चलने लगी
    दो कदम अब चलो,बस इबादत करो

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति,,,,
    मंजिल तो है अब तेरे कदमो तले
    बाँहों में भरने की सिर्फ़ चाहत करो,,,
    ===========================
    recent post : नववर्ष की बधाई

    जवाब देंहटाएं
  7. ,मन पे काबू रखो ,निर्भया बनो ! वर्ष 2012 ने जो चिंगारी छेड़ी है अन्ना जी से निर्भया तक ,जब अकेली जान आधी दुनिया की पूरी तथा इंसानियत की लड़ाई लड़ सकती है मौत को

    धता बता सकती है तब एक फर्ज़ हमारा

    भी है सेकुलर वोट की बात करने वालों को हम भी मुंह की चखाएं .

    ,शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .


    छलक जाएँ न आँखों से आँसूं कहीं
    इन्हे तुम छुपाने की हिम्मत करो

    कहीं खो न जाए मंजिल तुम्हारी
    मोहब्बत की अपनी हिफाज़त करो

    आंधियाँ जोर की हैं अब चलने लगी
    दो कदम अब चलो,बस इबादत करो

    मंजिल तो है अब तेरे कदमो तले
    सिर्फ बाँहों में भरने की चाहत करो

    संग्रह करें इन प्यार के ज़ज्बातों का ,सफर में रातें अँधेरी भी आयेंगी .हौसला रख आगे बढ़

    अभी तो और भी रातें सफर में आयेंगी ,

    चरागे शब मेरे महबूब संभाल के रख .


    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    शुक्रवार, 28 दिसम्बर 2012
    एक ही निर्भया भारी है , इस सेकुलर सरकार पर , गर सभी निर्भया बाहर आ गईं , तब न जाने क्या होगा ?

    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं