बुधवार, 26 दिसंबर 2012

30.Madhu Singh: Kuch To Karo

                



                     
                               
    
                
                पास  बैठो  मेरे,कोई शरारत करो 
                नफ़रत  करो  या  मोहब्बत  करो 

                न  डूबें कहीं  हम  भँवर में अकेले 
                साथ  जीने  की  कोई  सूरत  करो 

               चुप  न  हो,  तुम  यूँ  हीं  बैठी  रहो 
               कोई  खंजर  चलाओ  शरारत करो 

               छलक जाएँ न आँखों से आँसूं कहीं 
               इन्हे तुम छुपाने की हिम्मत  करो 

              कहीं  खो न जाए  मंजिल  तुम्हारी 
              मोहब्बत की अपनी हिफाज़त करो 

              आंधियाँ जोर की हैं  अब चलने लगी
              दो कदम अब चलो,बस इबादत करो 

              मंजिल तो  है अब  तेरे कदमो तले 
             सिर्फ  बाँहों में भरने की चाहत करो

                                                    मधु"मुस्कान"