रविवार, 23 दिसंबर 2012

29.Madhu Singh :Pata Jindagi Ka

आज भी जिंदगी का पता खोजती भारतीय नारी      


                   पता जिन्दगी का


     
                 पता जिन्दगी का  मुझे तुम बता दो 
                 मेरी राहों पर पसरे  अँधेरें  मिटा दो 

                 है  न जाने  कहाँ  खो गई  ज़िन्दगी 
                 मेरी  जिन्दगी का  ठिकाना बता दो 

                  जिन्दगी बन गई मौत है अब मेरी
                 जिंदगी से मेरी जिंदगी को घटा दो 

                 भँवर  बीच कश्ती  बही जा  रही है 
                 जगह  डूबने की मुझे तुम  बता दो 

                 जहाँ  जा  के  वापस  न  लौटा कोई 
                 साथ डूबें जहाँ वो ज़गह अब बता दो  

                 खत्म सांसें हैं बस एक पता पूछतीं 
                 कफ़न के मुझे सब ठिकाने बता दो 

                                          मधु"मुस्कान"