रविवार, 23 दिसंबर 2012

29.Madhu Singh :Pata Jindagi Ka

आज भी जिंदगी का पता खोजती भारतीय नारी      


                   पता जिन्दगी का


     
                 पता जिन्दगी का  मुझे तुम बता दो 
                 मेरी राहों पर पसरे  अँधेरें  मिटा दो 

                 है  न जाने  कहाँ  खो गई  ज़िन्दगी 
                 मेरी  जिन्दगी का  ठिकाना बता दो 

                  जिन्दगी बन गई मौत है अब मेरी
                 जिंदगी से मेरी जिंदगी को घटा दो 

                 भँवर  बीच कश्ती  बही जा  रही है 
                 जगह  डूबने की मुझे तुम  बता दो 

                 जहाँ  जा  के  वापस  न  लौटा कोई 
                 साथ डूबें जहाँ वो ज़गह अब बता दो  

                 खत्म सांसें हैं बस एक पता पूछतीं 
                 कफ़न के मुझे सब ठिकाने बता दो 

                                          मधु"मुस्कान"
  
                 
                

                 
                

               
                  

                 
                   

                                            

                
  





           

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 25/12/12 को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है ।

    जवाब देंहटाएं
  2. behad sundar Rachna ...wahhhh
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहद मर्मस्पर्शो और भावनाओं से आच्छादित प्रस्तुति$$$$^^^^^^$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$ भँवर बीच कश्ती बही जा रही है
    जगह डूबने की मुझे तुम बता दो

    जहाँ जा के वापस न लौटा कोई
    साथ डूबें जहाँ वो ज़गह अब बता दो

    जवाब देंहटाएं


  4. साथ डूबें जहाँ वो ज़गह अब बता दो
    साथ डूबने की जगह तो पता नहीं ...
    साथ तैरने की जगह यही है ... !
    आदरणीया मधु जी
    :)

    अच्छा है , ...और श्रेष्ठ लिखें यही कामना है ।

    नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    जवाब देंहटाएं