शुक्रवार, 21 दिसंबर 2012

28.Madhu Singh:Bs Ek Bar

      बस एक बार 




      लपटें, खुद-ब- खुद उठ  जायगी  चिनगारियो से 
      बस,एक बार आप जरा  खुद को तो आजमाईए     
     
      खुद - ब- खुद  मुड़  जायगा  रुख  आन्धिओं का  
      बस,एक बार आप   जरा  हिम्मत  तो दिखाईए 

      बिस्फोट, खुद-ब- खुद  हो जायगा चंद लमहों में 
      बस,एक बार आप तीली माचिस की तो जलाईए  

      बेड़ियाँ मजबूरिओं की ख़ुद- ब -ख़ुद खुल जायगी 
     बस, एक बार आप  अपने  कदमों को तो बढाईए   

     बुज़दिली,खुद -ब -खुद बन  कर  धुवां उड़ जायगी  
     बस,एक बार आप आग अपने सीने में तो जलाईए 

     खुद-ब-ख़ुद मुड़ जायगा रुख नदी का अपनी तरफ  
     बस,एक बार आप मशालें अपने दिल की जलाईए     
                                                     मधु"मुस्कान"