शनिवार, 29 दिसंबर 2012

33.Madhu Singh : Swagat Kaise Kare Nav Vrsh Ka






              स्वागत कैसे करें नव वर्ष का ?



             है लमहा  लमहा पूछ्ता कैसे गुज़रा साल 
             था  खूँन  से रंगा  हुआ माँ  का बीता साल 

             हाथ  सनें थे खून से मत पूछो  तुम हाल 
            आँखें में ही झांक तुम पढ़ लो बिता साल 

             जख्म,हुए नासूर सब झुका देश का भाल 
             लाश बनी इंसानियत बदल गई सब चाल 

            कल ही देखो क्या हुआ क्या बतलाऊ हाल 
            बेटी तो मर गई माँ ममता दोनों हुई बेहाल 

            उम्मिदों की पोटली लिए कैसे बदलें साल 
            उधड़ गई जब बेटिओं की देखो सारी खाल  
                                               मधु "मुस्कान"