शुक्रवार, 28 दिसंबर 2012

32.Madhu Singh : khanzar

             

             खंजर 


           लेकर  मशाले  हाथ  में, घर  से निकलना चाहिए 
            अब  बेटिओं  को  मौत से लड़ना  सिखाना चाहिए 

           जल  रही  है जिंदगी, ज़ज्बातों को जगाना चाहिए 
                                                                 अब  बेटिओं  के  हाथ  में  खंज़र  थम्हाना  चाहिए 

           जल रहीं  हैं बेटियाँ, मुल्क के, हर गली ,हर गाँव में 
           हैं जो जलाते बेटियाँ अब उनको  भी जलाना चाहिए 

            बेटियाँ, हैं जलाई जा रहीं अब  यातना की आग में 
            अब इस मुल्क  की आबो-हवा को बदलना चाहिए

            जो  दरिन्दे बेटिओं को  हैं जलाते हवस की आग में
            जिस्म उनके काट   उनको सूली पर चढ़ाना  चाहिए 

                                                         मधु" मुस्कान"