शनिवार, 5 जनवरी 2013

37.Madhu Singh: Mujhe Ji To Lijiye


      मुझे जी तो लीजिए 

               है  गुजारिस आप से, कुछ कह तो दीजिए
               दो पल ही, सही  आप मुझे जी तो लीजिए

               जो कह न पाया  अब  तलक  मैंने आपसे 
               हिम्मत जुटा के आप , वो कह तो दीजिए 

               माथे की सलवटों को, तुम देखते   बहुत हो 
               जरा पास आ के  मेरे , उन्हें पढ़ तो लीजिए 

              है ये कोई खेल नहीं' मेरी जिंदगी का घाव है 
              हाँ,कह के एक बार बस,जुबां सी ही लीजिए 

             तुम बिन बने हैं ज़ख्म  मेरे दिल में हजारों
             बस, एक बार आ के आप उन्हें देख लीजिए

             है आपका ही नाम  तो, हर जख्म पर लिखा 
             बस, पास आ के आप  उसे  पढ़  तो लीजिए 

            सदिओं से जल रहा है  एक  शक्स  सहर में 
            बस,उसका चेहरा आप अब पहचान लीजिए 

           है पहेली जो  मिली अपनों से  ही बक्शीश में 
           बस,एक बार पढ़ के आप उसे हल तो कीजिए 

                                            मधु "मुस्कान"