गुरुवार, 3 जनवरी 2013

35.Madhu Singh :Chehra

                 


            चेहरा                                                  

             उस वख्त गर छलक जाते मेरे  आँखों से आँसू
            सुबह,अख़बार की सुर्खी में, चेहरा आप का होता

           कहानी जो  नहीं लिक्खी  जा सकी है अब तलक
           उसे सुनहरे पंख लग जाते, चेहरा आप का होता

           सभी वाकिफ़ तो हो जाते मोहब्बत की खबर से
           मुझे  रफ़्तार मिल जाती,  चेहरा आप का  होता   

          गर  ढील दे देती मुझे,अपनी बाँहों की जंजीरों से
          हमारी  ईद  हो  जाती  ,पर चेहरा  आपका  होता

          पता गर मिल गया होता ज़हां पानी है ठहरा हुआ  
          हमे भी दीद  हो  जाता ,पर चेहरा  आप  का होता

         है कहानी जो अधूरी अब तलक गर लिख गई होती
         हमारा  नाम  हो जाता ,पर चेहरा  आप  का  होता  

         इनायत आप की होती  , गुज़र  मेरा  भी  हो  जाता
         अँधेरें दिल के मिट जाते  ,पर चेहरा आप का होता

         गर पता मुझको ठिकाने का पूरा  मिल गया होता 
         तबस्सुम आपका  होता , वो  चेहरा आप का होता


( यह रचना अज़ीज़ जौनपुरी साहब,जो मेरे सौहर हैं, को आज उनके जन्म दिन पर सादर  )

                                                              मधु"मुस्कान"