बुधवार, 9 जनवरी 2013

41.मधु सिंह : दिलदार निकला




         दिलदार  निकला
             मेरा सौहर, बड़ा दिलदार  निकला
             सखिओं  को  मेरे,  सताता  बहुत है
             बाँहों  भर, वो   मुस्कुराता  बहुत  है 
              बड़ा शातिर मगर, रसदार  निकला 
             मेरा सौहर ...................................
             
            है वो सतिर मगर, चुप रहता बहुत है     
           पास  आता  नहीं, पर  बुलाता  बहुत है 
           पास  आते  ही  नज़रें  झुकता   बहुत है 
           बड़ा ज़ालिम मगर,दिलनिसार निकला 
           मेरा सौहर बड़ा ...................................

            वो छकाता बहुत है , रुलाता बहुत है 
           तिरछी नजरों  के बाण चलाता बहुत है 
           दीखता है भोला,पर खेला-खाया हुआ है 
           बड़ा कातिल मगर मज़ेदार निकला 
           मेरा सौहर बड़ा ...................................

           मुझसे जलता बहुत है ज़लाता बहुत है 
           है वो मेरा पिया पर, बहरूपिया बहुत है
           बंद आँखों से वो पीता-पिलाता  बहुत है
           बड़ रसिया मगर दिलफिगार(1)  निकला 
           मेरा सौहर बहुत ..............................

           बताता  है  ख़ुद  को वो बूढ़ा  बहुत है   
           है दिखने में साठा, पर पाठा  बहुत है 
           पास पाते ही मुझको सताता बहुत है 
           दिल का घायल मगर,तलबगार(2) निकला 
           मेरा सौहर  बहुत ..............................

           बड़ा पहुँचा  हुआ  खिलाड़ी है वो
            है दिखने में लगता बड़ा बेवफ़ा 
           पर अंदर से वो वफ़ादार निकला
           मेरा सौहर, मेरा गुनहगार निकला
           मेरा सौहर बहुत  ......................... 
           
                                   मधु "मुस्कान"
    (1)    घायल दिल वाला   (2)ख्वाहिशमंद 


     (कुमाउं विश्वविद्यालय में शीतावकाश के कारण अपने सौहर के साथ मेरा रुख गाँव की तरफ़ )
                                शीघ्र ही वापस आने पर अपनी उपस्थिति दर्ज़ करूगीं