सोमवार, 28 जनवरी 2013

51. मधु सिंह : कफ़न अपना बुने जा रही हूँ




         कफ़न बुने जा रही हूँ 


         बेटिओं  के  किस्से  लिखे  जा  रहीं हूँ 
        कफ़न  अपना   ख़ुद   बुने  जा  रही  हूँ

        कब  कहाँ  जल  उठे  बेटिओं  की चिता 
        बन अभागन का आँचल जिए जा रही हूँ 

        न   हया   है  बची  कहीं   देश  में  अब                              
        लाश,बन एक ,ख़ुद को  ढुले जा रही हूँ 

       नियम कानून की  धज्जियाँ उड़ रहीं हैं                                
       एक  जलती चिता बन जिए जा रही हूँ 

       कोख  से  ही बेबस  हो गई  बेटियाँ अब 
       जन्म  लेने के पहले  ही मरी  जा रही हूँ 

       सत्य को गरिमा मिले बेटियाँ हीं सत्य हैं 
      यही  अरमा  सजोए  मैं  जिए  जा रही हूँ    
     
         
                                        मधु "मुस्कान"