गुरुवार, 31 जनवरी 2013

54. मधु सिंह : मसीहा




                   मसीहा 




                जिनके  माथों  पर  लिखी  है जेल की ऊँची फसील
                धृतराष्ट्र बन,वो आईना  हमको दिखाने में आ गए

                 आधी   अवादी  मुल्क  की  मर  रही  फुटपाथ  पर
                 हुश्ने  मीनार,  ताज  का  किस्सा सुनाने  आ गए  

                 घर   से   लेकर  घाट   तक   बिक   रहा  इमान है
                 और वो बहुमत के गणित का खेल समझानेआ गए
 
                आग  फिरका  परस्ती की  है  जल  रही चारो तरफ 
                उधर वो चाँद पर भी  दंगें की साज़िस कराने आ गए


                 मजबूरियों  में   जिश्म  सारा  हो  गया  है  निर्वसन 
                 और वो जिश्मे -बेपर्दगी का तमासा दिखाने आ गए 
              
                 है  जल   रही  जिंदगी  आज   भी  चूल्हे  की  आग में
                 वो  हुश्न  के  नंगे  गरारे की डिजाइन दिखाने आ गए

                है नहीं  महफूज़ कोई भी इबादतगाह जिस  मुल्क में 
                बन मसीहा  , चाँद पर मंदिर-मस्ज़िद बनाने आ गए 

                                                                       मधु "मुस्कान " 
              
              
               

             

               
              
          

              
               

             
               
               
             
              
              
             
              

7 टिप्‍पणियां:


  1. है नहीं महफूज़ कोई भी इबादतगाह जिस मुल्क में
    बन मसीहा , चाँद पर मंदिर-मस्ज़िद बनाने आ गए

    बहुत खूब .

    जवाब देंहटाएं
  2. ईमान .,चारों तरफ ,साजिश ,जिस्म ,तमाशा ,हुस्न ,

    बेहतरीन बिम्ब योजना रची है भाव और अर्थ की सश्क अभिव्यक्ति .'पूर्णिमा 'के चाँद सी ,बे दाग शायरी ..

    जवाब देंहटाएं
  3. सशक्त अभिव्यक्ति हुई है भाव और अर्थ की .

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    जवाब देंहटाएं
  5. है नहीं महफूज़ कोई भी इबादतगाह जिस मुल्क में
    बन मसीहा , चाँद पर मंदिर-मस्ज़िद बनाने आ गए
    बिलकुल सच कहा आपने
    New postअनुभूति : चाल,चलन,चरित्र
    New post तुम ही हो दामिनी।

    जवाब देंहटाएं