मंगलवार, 22 जनवरी 2013

48. मधु सिंह : प्यार मुझको कर गया


     प्यार मुझको कर गया                                                                                                                                                                                                   मैं  समन्दर  के   किनारे  लहरें  गिनती  रह  गई 
               चुप -चाप  कोई   दूर  से ,प्यार  मुझको  कर  गया 

               मैं ,एक  चेहरा  रेत पर , उसका  बनाती  रह  गई 
               एक  तिनका रेत का ,चुप- चाप मुझको छल गया

                हंसी लहरों में बूंदे प्यार की मैं देखती  ही रह गई 
                बूंद कोई ज्वार का ,मेरे  जिश्म को तर कर गया

                 ज्वार की लहरों की बाँहों में , मैं मचलती रह गई 
                 भर कोई  बाँहों में अपने ,प्यार  मुझको कर गया   
                
                खिलखिलाती धूप में ,मैं सीपियाँ हीं बिनती रह गई 
                चुप -चाप कोई  पास  आकर , माँग  मेरी  भर गया

                बेसब्र हो  बाँहों में  उसके  बस मैं तड़पती  रह  गई 
                और कोई प्यार से ,मेरी उम्र , नाम  अपने कर गया 
                                                                     मधु "मुस्कान """

                                                                    

                 
               
                                                                                                                                                                                                                                         

8 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति!
    वरिष्ठ गणतन्त्रदिवस की अग्रिम शुभकामनाएँ और नेता जी सुभाष को नमन!

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया है आदरेया |
    शुभकामनायें ||

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर वाह क्या कहने हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. बिंदास बोल .बोल राधा बोल कृष्णा को बोल नित नए बोल

    जवाब देंहटाएं
  5. Wahh kya baat hai bahut khoob ......bahut hi badhiya likha hai aapne madhu ji

    जवाब देंहटाएं
  6. प्रेम भाव की सशक्त अनुभूति .रागात्मक सम्बन्ध की बांसुरी है यह रचना .

    जवाब देंहटाएं