शनिवार, 19 जनवरी 2013

46.मधु सिंह : तमासा देखिये


   तमासा  देखिए 


   सर  ले  कर  पावँ  तक  पूरा  खुलासा  देखिए 
   हुश्न  की  बेपर्दगी  का  नंगा  तमासा  देखिए 

   आज  की तहज़ीब  की दरिया दिली तो देखिए  
   माँ  बहन के  नाम पर गाली की  भाषा देखिए

    हैं, हो  गईं  नश्लें हमारीं किस कदर बेशर्म अब
    माँ  भारती के चेहरे  पर  छाया  कुहासा देखिए 

    है  मचा एक शोर इस मुल्क में अब चारो तरफ़ 
    माँ बेटिओं पे ज़ुल्म का घटिया  तमासा देखिए 

    नज़रें हमारे देश की हैं जा टिकीं अब चन्द्रमा पर
    घर में बैठे चाँद के चेहरे पे छाई   निरासा देखिए 

    नग्नता की छावं में  है पल रही अब  युवा पीढ़ी 
    गिद्ध  जैसी   घूरती  आँखों  की   भाषा   देखिये 

     घर  से  लेकर घाट तक  जिन्दगी  है  जल रही 
     ज़िदगी तो मर गई  है मौत  की  हतासा देखिए "

     है  लगी जो आग  है माँ  भारती  के तन बदन में
    हो सके तो रोकिये ,बरना घर घर तमासा देखिए 

  

                                                  मधु "मुस्कान"""