रविवार, 6 जनवरी 2013

38.Madhu Singh : Betiyan

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        बेटियाँ

      गंगा -जमन  की आँखे रो -रो के थक गईं हैं
      मुल्क के बाज़ार में हैं बिक रहीं अब बेटियाँ 

     ममता बिलख रही  है, सारी  मायें उदास हैं
    सिक रहीं हैं बेटिओं के नाम पर,अब रोटियाँ

     सारा वतन है बन गया  काज़ल की कोठरी
     माँ-बेटिओं के नाम पर चल रहीं हैं गोटियाँ

     इंसाँ  ज़मी पे, फ़लक पे सारे -तारे  उदास हैं
     मुल्क के तहज़ीब की,की जा रहीं  हैं बोटियाँ

     बरबादिओं के हर तरफ है मंजर ही दिख रहे
     दोज़ख में जी रहीं  इस मुल्क में अब बेटियाँ

     सपने हमारी बेटिओं के,जल खाक हो सो गए 
    अब कोख से ही आने में डर,मर रहीं हैं बेटियाँ 

                                             मधु "मुस्कान"
  

   
  

9 टिप्‍पणियां:

  1. सारा वतन है बन गया काज़ल की कोठरी
    माँ-बेटिओं के नाम पर चल रहीं हैं गोटियाँ

    ...बहुत उम्दा..

    जवाब देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  3. इंसाँ ज़मी पे, फ़लक पे सारे -तारे उदास हैं
    मुल्क के तहज़ीब की,की जा रहीं हैं बोटियाँ

    बरबादिओं के हर तरफ है मंजर ही दिख रहे
    दोज़ख में जी रहीं इस मुल्क में अब बेटियाँ
    sch

    जवाब देंहटाएं
  4. सपने हमारी बेटिओं के, जल खाक हो सो गए
    अब कोख से ही आने में डर, मर रहीं हैं बेटियाँ

    जवाब देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  6. Shayad isse behtarin aur koi prastuti ho nahi sakti , Aap ki kalam main jo dhaar hai , wo kisi aur rachnakar ke paas mil nain sakti .

    जवाब देंहटाएं
  7. हमारे वक्त की मौजू समस्या को स्वर दिए हैं इस रचना ने अर्थ पूर्ण .

    जवाब देंहटाएं
  8. विचार और भाव की सशक्त अभिव्यक्ति .इस दौर की ज्वलंत समस्याओं को आपने उठाया .काफी समय से आपकी रचनाओं तक कुछ तकनीकी कुछ अपनी कम्प्यूटर अल्पज्ञता की वजह से पहुँच नहीं

    पा रहे थे .आज पहुंचे खलनायक बनके स्पेम बीच में आ गया है पोस्ट और ब्लोगर के बीच .

    जवाब देंहटाएं