रविवार, 6 जनवरी 2013

38.Madhu Singh : Betiyan

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        बेटियाँ

      गंगा -जमन  की आँखे रो -रो के थक गईं हैं
      मुल्क के बाज़ार में हैं बिक रहीं अब बेटियाँ 

     ममता बिलख रही  है, सारी  मायें उदास हैं
    सिक रहीं हैं बेटिओं के नाम पर,अब रोटियाँ

     सारा वतन है बन गया  काज़ल की कोठरी
     माँ-बेटिओं के नाम पर चल रहीं हैं गोटियाँ

     इंसाँ  ज़मी पे, फ़लक पे सारे -तारे  उदास हैं
     मुल्क के तहज़ीब की,की जा रहीं  हैं बोटियाँ

     बरबादिओं के हर तरफ है मंजर ही दिख रहे
     दोज़ख में जी रहीं  इस मुल्क में अब बेटियाँ

     सपने हमारी बेटिओं के,जल खाक हो सो गए 
    अब कोख से ही आने में डर,मर रहीं हैं बेटियाँ 

                                             मधु "मुस्कान"