बुधवार, 16 जनवरी 2013

44. मधु सिंह : मतलब प्यार का

                मतलब प्यार का 


       



        खुद-ब-खुद समझ में आ जायगा प्यार  का मतलब तुम्हे 
        बस, आप  एक  बार  आप , नज़रें  मिला  कर तो  देखिए 

       रंग  सारे  जिंदगी  में  प्यार  के  खुद- ब -खुद   भर  जायगें 
       बस,  आप  थोड़ी  देर तक ,  अपनी  नज़रें पढ़  कर  देखिए 

       जिंदगी  को  चाहिए  बस  प्यार  की  एक  भाषा  मुक्कमल 
       किताबें  नज़रों की कलम से लिक्खी जरा पढ़ कर तो देखिए 

      देखिये  झुक जायगी  नज़रें  तुम्हारी   देख कर  मेरी  नज़र 
      गिरा पलकें, झुका  नज़रें, जरा  कुछ  देर आईने  में  देखिए 

      मदरसे  में  नहीं  होती पढ़ाई सुनो ,मोहब्बत  के  पहाड़े की
      बस  एक बार  आप मेरे पास आ , जरा  मेरी तरफ  देखिए

      ख़ुद  आईने के  सामने  हो कर खड़ी  , बस आईने में  देखिए
     मतलब प्यार का  ख़ुद-ब-ख़ुद  अपनी  आँख में  पढ़ लीजिए  

                                                                मधु"मुस्कान"