मंगलवार, 8 जनवरी 2013

40.Madhu Singh:Chalo-Chalen

             चलो-चलें 

        
            नफ़रत की आग और  भी अब तेज हो गई                                                   चलो  -चलें  यहाँ  से अब  उम्र  भर के लिए 

             रास्ते खुद-ब-खुद हो गए साजिश में सरीक
             चलो-चलें  सहराओं की तरफ बसर के लिए

             यहाँ तो दुआएँ भी कत्ल  करने पे आमादा हैं
             चलो-चलें  कहीं और  जिंदगी की  सहर लिए

       जिश्म को ही जब भुनाने  लग गई  हैं रोटियाँ
       चल-चलें  कहीं और रोशनी की खबर  के लिए 

      खुद्गर्जियाँ अपनों की अब जलाने लग  गई  है
      चलो-चलें कहीं प्यार  की  एक नज़र के लिए

      बस्तियां  भीं  जब सरीफों की  सुपुर्दे खाक  हैं
      चलो-चलें शमशानों की तरफ़ बसर   के लिए

      यहाँ तो होमो- हवन में ही  हाथ जलने लगे  है
      चलो-चलें कहीं और ही ज़िन्दगी के सफ़र लिए

                                                        मधु"मुस्कान"