सोमवार, 1 दिसंबर 2014

मधु सिंह : इश्क मेरा रूहानी है




 आप के दरबार में आप की दुआ के खातिर 
                 



इश्क   मेरा   रूहानी है 
राहे- ख़ुदा    कहानी है 

बन बैठा मैं रब का बंदा
रब ही मेरी कहानी है 

सांसो की धड़कन में मेरे 
रब की लिखी कहानी है 

इश्क राम रहमान इश्क है 
सज्द:गाहों  की कहानी है      

सज्जाद हूँ मैं दरगाहों का 
दिल दरगाहों की कहानी है 

रब ही जिश्म है रब ही रूह है 
रूह-ए-परवर की कहानी है 

 सच है यह दुनिया वालों 
 आना जाना ही कहानी है 

                 मधु "मुस्कान "







कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें